Latest Updated Deals
thumbnail

ब्रह्मास्त्र का रहस्य (brahmastra ka rahasya)


Buy Now
प्राचीन काल के वेदों में कहीं-कहीं ब्रह्मास्त्र का विवरण मिलता है. रामायण और महाभारत में भी ब्रह्मास्त्र का  उपस्थिति का विवरण मिलता है।

रामायण में लक्ष्मण जी ने मेघनाथ को मारने के लिए ब्रह्मास्त्र चलाने की राम जी से बात की थी जिसमें राम भगवान ने कहा था कि अगर ब्रह्मास्त्र का उपयोग किया गया तो लंका के निर्दोष लोग भी मारे जाएंगे.

ब्रह्मास्त्र  कितने प्रकार के होते हैं.


यह जानने से पहले की ब्रह्मास्त्र की संपूर्ण संपूर्ण ताकत कितनी ब्रह्मास्त्र की संपूर्ण ताकत कितनी है उससे पहले हम यह जान लेते हैं कि ब्रह्मास्त्र कितने प्रकार के होते हैं.

मुख्य तौर से अगर देखा जाए और जितने प्रमाण आज तक उपलब्ध हैं उसके हिसाब से ब्रह्मास्त्र को लगभग 4 वर्गों  में बांटा जा सकता है

1.  इक्षित वर्ग



 
ब्रह्मास्त्र

 


इस वर्ग में इच्छा मात्र से ब्रह्मास्त्र को प्रगट करने की क्षमता चलाने वाले के पास होती है ।

2. रसायनिक वर्ग

यह वर्ग ब्रह्मास्त्र का मारक क्षमता का परिचय देता है.
इसी वर्ग में तय किया जाता है कि आखिर यह अस्त्र कितना कितना अस्त्र कितना कितना विनाश करने में सक्षम होगा।
इस वर्ग में उन रसायनों का चयन किया जाता है जो ब्रह्मास्त्र के मारक क्षमता को कम या ज्यादा कर सकते हैं।

3.  दिव्य वर्ग

यह वर्ग ब्रह्मास्त्र के दिव्यता को दर्शाता है इसमें पता चलता है कि यह सृष्टि की एक ऐसी ताकत का प्रतिनिधित्व करता है जो बहुत दिव्य है.

अगर हम साधारण भाषा में कहे तो यह कोई आम अस्त्र नहीं है। ब्रह्मास्त्र की विनाश करने की क्षमता केवल जीव को मारने तक ही नहीं है इसके अलावा यह प्रकृति के ताकत अनु और परमाणु  में व्याप्त है उस स्तर तक यह विनाश विनाश कर देता है.

अगर हम साफ तौर से से तौर से से कहे तो यह केवल एक शरीर को नहीं मारता बल्कि वह शरीर जिन अणु परमाणु से मिलकर बना है उस तक को नष्ट कर देता है।

इसलिए ब्रह्मास्त्र को दिव्य वर्ग में रखा जाता है जो कि साधारण साधारण अस्त्रों के वर्ग में नहीं आता है।

4.  मंत्र वर्ग

ब्रह्मास्त्र का प्रयोग मंत्रों से बना है है. मंत्र एक प्रकार की सहेली है जो इस ब्रह्मास्त्र को चलाने के लिए चाहिए।
ब्रह्मास्त्र के चलाने वाले मंत्र और इसे व्यक्त करने की शैली सिर्फ व्यक्त करने की शैली सिर्फ उसे ही पता होता है जिसके पास यह ब्रह्मास्त्र होता है.

जिस तरह से आज परमाणु बम को चलाने के लिए एक पूरी प्रक्रिया है उसी तरह से आप  ब्रह्मास्त्र को चलाने के लिए मंत्र को समझ सकते हैं.

अगर यह किसी के हाथ लग भी जाए तो भी इसका उपयोग ना कर सके मंत्र वर्ग इस बात को सुनिश्चित करता है।

युद्ध में उपयोग किए जाने वाले साधन का भाग


युद्ध में उपयोग किए जाने वाले लडाई के साधनों को मुख्यतः दो भागों में बांटा जा सकता है।

1.  शस्त्र

 
शास्त्र


शास्त्र ऐसे हथियार को कहते हैं जो मुख्यतः धातु से निर्मित होते हैं.
इसे चलाने एवं रखने के लिए कोई भी विशेष व्यवस्था नहीं की जाती है.
यह छोटी एवं आम लड़ाई में उपयोग किए जाने वाले हथियार होते हैं
अगर हम इसका उदाहरण दे तो तलवार या चाकू या साधारण बांध के समान आप इसे समझ सकते हैं.

इसमें कोई दिव्यता नहीं होती है। और यह सिर्फ उन्हीं को नुकसान पहुंचा सकते हैं जिनकी और यह चलाए गए

2.  अस्त्र

 
जबकि आज तक ऐसे हथियार होते हैं जो दिव्य विद्या से तैयार किए जाते हैं इनको बनाने एवं चलाने का तरीका शस्त्रों से बिल्कुल भिन्न होता है।

जैसा कि मैंने पहले आपको बताया था कि यह मंत्र संचालित अस्त्र होते हैं.

इस प्रकृति में जो शक्तियां हैं जिससे  यह प्रकृति चलाएं मान है है उसका अध्ययन करके उस शक्ति को को को बांध लेना फिर उन शक्तियों का अस्त्र के रूप में उपयोग कर लेना इस विद्या का उद्देश्य होता है.

प्रत्येक दिव्य अस्त्र पर प्रत्येक देव और देवी का अधिकार होता है.
असल में प्रकृति में व्याप्त विभिन्न प्रकार की शक्तियों को पहचान कर उन्हें हमने किसी देवी या देवी का नाम दे दिया है जिससे उस अस्त्र की प्रकृति और क्षमता को पहचाना जा सके.

हम सब जानते हैं कि ब्रह्मा ने सृष्टि की रचना की है। तू जिन तत्वों से इस सृष्टि की रचना हुई है उस तत्वों को पहचानकर एक ऐसे अस्त्र का रचना कर देना जो उस तत्वों का विनाश कर सके उसे ही ब्रह्मास्त्र कहा जाता है.

ब्रह्मास्त्र एक अचूक अस्त्र की श्रेणी में आता है जो शत्रु का समूल विनाश करने में सक्षम है एक ब्रह्मास्त्र का कार्ड सिर्फ सिर्फ दूसरा ब्रह्मास्त्र ही हो सकता है.

महर्षि वेदव्यास जी ने बताया है कि जहां भी ब्रह्मास्त्र छोड़ा जाता है वहां आने को बरसों बरसों तक पेड़-पौधों और जीव-जंतुओं की उत्पत्ति संभव नहीं है.

हमने महाभारत काल के बारे में सुना है कि बहुत से स्त्रियों के गर्व ब्रह्मास्त्र के कारण मारे गए थे. जो भी जीवन उस समय उत्पन्न होने की प्रक्रिया में था उन सभी का विनाश हो गया था.

ऐसा भी विवरण हमें मिलता है कि प्राचीन काल में ऐसे अस्त्रों का उपयोग किया गया था।
तो क्या आज हमारे पास कहीं कोई ऐसा प्रमाण उपलब्ध है। जिससे यह बात साबित होती हो कि प्राचीन काल मे  ऐसे दिव्य अस्त्रों का उपयोग किया गया हो.

 


आर्कलॉजिस्ट ने बहुत से ऐसे स्थानों की पहचान की है जहां पर ऐसे सबूत मिलते हैं कि यहां किसी ना किसी ऐसे अस्त्र का प्रयोग किया गया था जिससे इतनी उर्जा निकली थी। जिससे एक पूरी सभ्यता का विनाश हो गया था।

आप मोहन जोदड़ो और हड़प्पा सभ्यता के बारे में तो जानते ही होंगे जो लगभग 5000 से 7000 ईसा पूर्व  की बात है.
वहां ऐसे नर कंकाल पाए गए हैं जिनकी अचानक ही मृत्यु हो गई थी और जो किसी रेडिएशन के कारण हुई थी
इसके अलावा राजस्थान के जोधपुर के आसपास  ऐसा क्षेत्र उपस्थित है जिसमें रेडियो एक्टिविटी के प्रमाण मिलते हैं. ऐसे प्रमाण भी मिलते हैं कि किसी रेडियो एक्टिविटी के कारण एक्टिविटी के कारण लगभग 5 से 6 लाख इंसानों की मृत्यु एक झटके में हो गई थी.

निश्चय ही किसी दिव्य विनाशकारी अस्त्र के कारण ऐसा हुआ होगा. मुंबई के आसपास भी शोधकर्ताओं ने ऐसे जगहों जगहों का पता लगाया है जोया प्रमाण देता है कि प्राचीन काल प्राचीन काल में निश्चय परमाणु अस्त्र के समान ब्रह्मास्त्र का प्रयोग हुआ था.

 

अगर आप रहस्यमय घटनाओं के बारे में पढ़ना पसंद करते हैं तो आप इस किताब को खरीद सकते हैं इसमें एक बहौत अच्छी किताबो में एक है


thumbnail

Best LG Smart LED TV


Buy Now
आज के पोस्ट में हम बेस्ट LG Smart LED TV की बात करेंगे अगर आप एक Best LED smart TV की तलाश कर रहे हैं तो आप सही जगह आए हैं


  • अगर आप LED TV खरीदना चाहते हैं तो इसके लिए आप LG Company का TV खरीद सकते हैं.

  • LG Company में आपको हर तरह की बजट में अच्छे Tv मिल जाएंगे.

  • आप LG Company का LG 108 cm (43 inches) 4k uhd smart led tv खरीद सकते हैं. यह एक बहुत ही अच्छा Smart TV है.

  • इस LED TV की अगर हम display की बात करें तो 43 inches का है.

  • HD technology and regulations की बात करें तो करें तो यह Ultra HD 4K Smart TV है।

  • इस Smart TV में एप्लीकेशन, कॉन्टेंट सभी को enjoys कर सकते हैं.

  • अगर आप इस टीवी में Internet features की बात करें तो इसमें आपको wi fi मिल जाएंगे.

  • इस TV में आपको operating system web OS का मिलता है।

  • इस LED TV में आपको YouTube, hotster जैसे एप्लीकेशन supported मिलता है आप आराम से enjoy कर सकते हैं.

  • अगर आप चाहें तो अपने फोन को इस TV में connect करके अपने phone के सभी कांटेक्ट को enjoy कर सकेंगे.

  • इस TV कि Audio quality बहुत ही जबरदस्त है अब इस TV को बिना किसी चिंता के खरीद सकते हैं.

  • इस TV का Model Name LG 108 cm (43 inches) 4k uhd smart led tv है खरीदने के लिए Click करें।



 

thumbnail

Best wireless Bluetooth earphones in india


Buy Now
आजकल स्मार्टफोन के जमाने में wireless earphones तेजी से लोग खरीद रहे हैं. तार वाले Earphones से ज्यादा लोग  wireless Bluetooth earphones से गाने सुनना पसंद करने लगे हैं. इसीलिए आज मैंने इस पोस्ट में best wireless Bluetooth earphone कि list को तैयार किया है।

 

1. OnePlus Bullets Wireless Z

OnePlus Bullets Wireless Z

 


  • यह एक Best wireless Bluetooth earphones मे से एक बेहतरीन Earphones है।

  • इसके neckband काफि फ्लैक्सिबल है जिसके कारण यह बहुत ही कंफर्टेबल है. आप आराम से सो कर भी बात कर सकते हैं.

  • इस ईयरफोन में आपको फास्ट चार्जर सपोर्ट मिलता है जिससे काफी जल्द ही ईयर फोन चार्ज हो जाएगा।

  • earphone के तार की बात करें तो एक normal rubber का बना हुआ है। और इसके इयरबड्स ठीक-ठाक है, इसीलिए यह काफी कंफर्टेबल है.

  • इस earphone की बैटरी बैकअप 20 घंटे तक है आपसे वैसे 20 मिनट चार्ज करने के बाद आप इसे 20 घंटे आराम से उपयोग कर सकते हैं।

  • अगर हम कुल मिलाकर बात करें तो यह एक बेहतरीन इयरफोन में से एक है आप इसे खरीद सकते हैं.


2. Boult Audio ProBass Curve Wireless

Boult Audio ProBass Curve Wireless


  • यह earphone भी एक बेहतरीन ईयरफोन में से एक है.

  • अगर हम इस headphone की डिजाइनिंग quality की बात करें तो इसे हम बहुत अच्छा तो नहीं कह सकते लेकिन ठीक ठाक क्वालिटी जरुर कह सकते हैं ।

  • Running करते समय भी आप इस headphone आराम से उपयोग कर सकते हैं, इसमें पसीना है या पानी जाने से भी कोई दिक्कत नहीं आएगी क्योंकि अब वाटरप्रूफ है।

  • अगर हम इस ईयर फोन की ऑडियो क्वालिटी की बात करें तो वह काफी अच्छी है.

  • इसके अलावा मैं Mike quality जबरदस्त है इसमें आप voice cancelation सपोर्ट मिलता है जिससे आप समझ सकते हैं mike क्वालिटी कितना बढ़िया है।
    अगर आप base पसंद करते हैं तो यह आपके लिए बहुत ही अच्छा headphone हो सकता है. क्योंकि इसकी base quality जबरदस्त है.


3. BoAt Rockerz 255 Sports in-Ear Bluetooth

BoAt Rockerz 255 Sports in-Ear Bluetooth

  • यह भी अभी बाजार में एक अच्छा Earphones में से एक है।

  • इस ईयर फोन को एक बार चार्ज करने के बाद आप 6 घंटे आराम से उपयोग कर सकते हैं.

  • अगर charge होने की बात करें तो यह थोड़ा slow है ये लगभग 1.5 घंटे में full charge होता हैं।

  • ये Earphones waterproof इसलिए पानी या पसीना से कोई डर नहीं है।

  • इस headphone कि साउंड क्वालिटी आपको बहुत ही अच्छा मिलेगा

  • इस headphone Bluetooth connection range की बात करें तो 10 मीटर तक है जो कि अच्छा है.


4. Sony WI-C200 Wireless In-Ear Headphones
Sony WI-C200 Wireless In-Ear Headphones

  • यह भी एक बेहतरीन हेडफोन में से एक है इसकी sound quality भी जबरदस्त है।

  • आप इस एक बार Full charge करने के बाद 15 घंटे तक आराम से उपयोग कर सकते हैं।

  • इस ईयरफोन में आपको फास्ट चार्जर सपोर्ट मिलता है जिससे काफी जल्द ही ईयर फोन चार्ज हो जाएगा।

  • इस headphone Bluetooth connection range की बात करें तो 9 मीटर तक है जो कि अच्छा है.


 

ये भी पढ़े :- Best laptop for normal budgut


thumbnail

Best laptop for normal budgut


Buy Now
आज के पोस्ट में सामान्य बजट में कुछ बेस्ट लैपटॉप के बारे में बात करेंगे। अगर आप भी सामान्य बजट में अच्छा लैपटॉप कि तलाश कर रहे हैं जो आप घर में use कर सके या work-from-home कर सके कर सके या business use या Study या normal gaming के लिए लेना चाहते हैं तो आप सही जगह आए हैं।

 

Lenovo Ideapad Slim 3


इस laptop में आप advance video editing कर सकते हैं. इस laptop को आप gaming के लिए भी use कर सकते हैं यह बहुत ही अच्छा है.


Lenovo Ideapad Slim
इस laptop सबसे अच्छी बात यह है कि इसमें SSD है। जिसके कारण इस laptop में जो एप्लीकेशन है जो SSD पर स्टोर होते हैं वह काफी फास्ट काम करते हैं.

इस laptop में ryzen 5 processor है। ryzen 5 AMD का एक successful processor है.
इस laptop में full HD display है जो काफी sharp है. जो इस laptop को बहुत ही शानदार बनाती है.
इस laptop की looks काफी अच्छी है. इसके अलावा sound quality जबरदस्त है.

Lenovo IdeaPad S145


ये Student के लिए best laptop हैं। इस लैपटॉप को आप video editing, Study और normal gaming के लिए use कर सकते हैं।

Best laptop for normal budgut

इस laptop मैं आपको 15.6 inches full HD display मिलता है जो काफी अच्छा है.

इस लैपटॉप में आपको ryzen 3 का प्रोसेसर मिलेगा जो काफी अच्छा प्रोसेसर है.

ASUS VivoBook 15


यह Laptop normal use के लिए एक बेस्ट laptop है अगर आप घर में work-from-home या business use करने के लिए लैपटॉप खरीदना चाहते हैं तो यह laptop आपके लिए बहुत ही अच्छा होगा.

ASUS VivoBook

 इस laptop की डिजाइनिंग मुझे बहुत ही जबरदस्त लगा जो आपको भी काफी पसंद आएगा.

इस laptop में आपको 15.6 inches display मिलता है।
अगर आप सामान्य बजट में normal use के लिए एक अच्छा लैपटॉप ढूंढ रहे हैं तो यह आपके लिए बहुत ही अच्छा हो सकता है.

thumbnail

rolex घड़ी के महंगी होने की क्या वजह है


Buy Now

Rolex का नाम सुनते ही हमारे दिमाग में महंगी महंगी घड़ियां की तस्वीर आ जाती है। लोगों का यह कहना होता है कि जो भी Rolex की घड़ियां पहनते हैं वह काफी अमीर होते हैं लेकिन कुछ लोगों का यह भी सोचना है कि चाहे घड़ी कोई भी हो समय तो बराबर ही दिखाती है लेकिन कभी ना कभी आपके मन में एक सवाल जरूर आया होगा कि आखिर rolex की घड़ियां इतनी महंगी क्यों होती है।



 rolex घड़ी के महंगी होने की कुछ वजह



rolex घड़ी



  • जरासल Rolex की घड़ियां अपने खास कारीगरी के लिए जानी जाती है. जिसके कारण इसकी कीमत बहुत ज्यादा होती है।

  • rolex घड़ी के कंपनियों का कहना है कि रोलेक्स की घड़ियां साधारण नहीं है। इसे बनाने के लिए कंपनी ने अलग से एक Research Lab बनाया है। इस Lab में घड़ियों पर बारीकी से काम किया जाता है। यह Lab एक से बढ़कर एक घड़ियां बनाती है और यहां पर काम करने वाले सभी स्टाफ professional होते हैं।

  • कंपनी का कहना है कि ऐसी घड़ियां बनाना आसान काम नहीं है. सबसे पहले Rolex की घड़ियां 1953 में बनाई गई थी यह घड़ियां समुद्री गोताखोर के लिए बनाई गई थी .

  • Rolex घड़ी के कंपनी का कहना है, कि इन घड़ियों को बनाने के लिए इसमें इतने छोटे-छोटे parts लगाए जाते हैं कि इसे गिनना भी बहुत ही मुश्किल है और इतने छोटे-छोटे parts को बारीकी से लगाना बहुत ही मुश्किल काम है। इन घड़ियों को को बनाने के लिए सभी काम को मशीन से करना संभव नहीं है इसके लिए कुछ काम हाथों से भी किया जाता है.


इसके अलावा Rolex में USE होने वाले materials काफी महंगे होते हैं यह भी इनकी कीमतों को बढ़ा देते हैं.




  • Rolex में ऐसे steel का इस्तेमाल किया जाता है जिससे यह घड़ियां अन्य घड़ियां से काफी मजबूत होते हैं।

  • Rolex घड़ी में इस्तेमाल होने वाले नंबर बहुत ही खास होते हैं, यह नंबर स्पेशल कांच के प्लेटिनम से तैयार किए जाते हैं.

  • Rolex घड़ी की एक खास बात और होती है इसे बनाने में सोने और चांदी का उपयोग किया जाता है. घड़ी बनाने के लिए सोने और चांदी के matel को पिघलाकर बने metal को मे घड़ियों में इस्तेमाल किए जाते हैं।

  • अब आप खुद सोच सकते हैं इन घड़ियों को जितनी मेहनत से से बनाया जाता है इसके हिसाब से इनके employees की भी सैलरी उतनी ही ज्यादा होती होगी इन्हीं सब कारण से यह घड़ियां इतनी महंगी होती है।

thumbnail

विज्ञान में ब्रह्मास्त्र को परमाणु बम के समान क्यों माना जाता है।(brahmastra weapon)


Buy Now
विज्ञान में ब्रह्मास्त्र (brahmastra weapon )को परमाणु बम के समान माना जाता है

तो चलिए जानते हैं ब्रह्मास्त्र को परमाणु बम के समान क्यों माना जाता है।


प्राचीन काल के वेदों में कहीं-कहीं ब्रह्मास्त्र का विवरण मिलता है.

रामायण और महाभारत में भी ब्रह्मास्त्र का उपस्थिति का विवरण मिलता है।

रामायण में लक्ष्मण जी ने मेघनाथ को मारने के लिए ब्रह्मास्त्र (brahmastra weapon )चलाने की राम जी से बात की थी जिसमें राम भगवान ने कहा था कि अगर ब्रह्मास्त्र का उपयोग किया गया तो लंका के निर्दोष लोग भी मारे जाएंगे.

हम सब को यह पता है कि इस सृष्टि की रचना ब्रह्मा जी ने की है. तो ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना जिन तत्वों से किया है उन तत्वों को नष्ट करने के लिए ब्रह्मा जी ने ब्रह्मास्त्र को तैयार किया था



ब्रह्मास्त्र एक ऐसे अस्त्र की श्रेणी में आता है जिससे इंसान के सिर्फ मृत्यु हि नहीं होती है उनका शरीर जिन तत्वों से बना है उन्हें भी नष्ट कर देता है।

महर्षि वेदव्यास जी ने बताया है कि जहां ब्रह्मास्त्र छोड़ा जाता है वहां अनेकों वर्षों तक पेड़ पौधे और जीवन की उत्पत्ति संभव नहीं है।

हमने महाभारत काल में सुना है कि एक ऐसे अस्त्र का प्रयोग किया गया था जिसने बहुत सारे जीवो को एक ही झटके में नष्ट कर दिया था।

ग्रंथों में ऐसा विवरण मिलता है कि प्राचीन काल में ऐसे अस्त्रों का प्रयोग किया गया था तो क्या आज भी ऐसे अस्त्र के प्रमाण मौजूद हैं। जिसे साबित होती हो कि प्राचीन काल में ऐसे अस्त्रों का उपयोग किया गया हो।

ब्रह्मास्त्र के उपयोग होने के सबूत और विज्ञान में महत्व।


कुछ समय पहले शोधकर्ताओं ने बहुत से ऐसे स्थानों का पहचान की है जहां ऐसे सबूत मिलते हैं कि हां किसी ना किसी ऐसे दिव्य अस्त्र का प्रयोग किया गया था कि जिससे इतनी ऊर्जा निकली थी कि एक पूरी की पूरी सभ्यता का विनाश हो गया था।

मोहनजोदड़ो और हड़प्पा सभ्यता जो लगभग 5000 से 7000 ईसा पूर्व की बात है जो पूरी की पूरी संस्कृति एक ही झटके में नष्ट हो गई थी

वहां पर ऐसे नर कंकाल पाए गए हैं जिसकी अचानक मृत्यु हो गई थी। जो किसी रेडिएशन के कारण हुई थी ।

राजस्थान में जोधपुर के पास एक ऐसा क्षेत्र उपस्थित है जहां पर रेडियो एक्टिविटी के प्रमाण मिलते हैं।

ऐसे प्रमाण भी मिलते हैं लगभग 5 से 6 लाख लोगों की मृत्यु एक ही झटके में हो गई थी। निश्चय ही ये किसी दिव्य विनाशकारी अस्त्र के कारण ऐसा हुआ होगा ।

शोधकर्ताओं ने बहुत से ऐसे जगहों का पता लगाया है जिससे पता चलता है कि प्राचीन काल में ऐसे अस्त्र का प्रयोग किया गया है जो परमाणु बम के समान अस्त्र थे।

brahmastra weapon

इसीलिए विज्ञान में परमाणु बम को ब्रह्मास्त्र से जोड़कर देखा जाता है।
thumbnail

GST KYA HAI | GST के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारियां।


Buy Now
नमस्कार दोस्तों आज के post में हम GST के बारे में पूरी डिटेल में जानेंगे जीएसटी से रिलेटेड आपके मन में जितने भी सवाल हैं जैसे कि GST का FULL FORM क्या है, GST KYA HAI और GST के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारियां को जानेंगे. तो दोस्तों पूरी जानकारी के लिए पोस्ट को पूरा पढ़े.

 

GST का FULL FORM क्या है।


GST जिस का फुल फॉर्म Goods and Service Tax है जिसे हम हिंदी में वास्तु सेवा कर कहते हैं .

 

GST क्या है। (GST KYA HAI)


 

  • GST यानी वस्तु एवं सेवा कर एक ऐसा कर है जो राष्ट्रीय स्तर पर किसी भी वस्तु के निर्माण बिक्री और उपयोग पर लाया जाता है।

  • जीएसटी भारत में 1 जुलाई 2017 को लागू किया गया था .

  • भारत सरकार ने 122 में संविधान संशोधन विधेयक के रूप में दिसंबर 2014 में लोकसभा में से प्रस्तुत किया.

  • जीएसटी लोकसभा में 3 अगस्त 2016 को तथा राज्यसभा में 8 अगस्त 2016 को पारित हुआ।

  • जीएसटी पर राष्ट्रपति ने अपनी मंजूरी 8 सितंबर 2016 को दी थी.

  • 101 वां संविधान संशोधन के तहत संपूर्ण भारत में जीएसटी लागू हुआ ।


 

GST के बारे में सभी महत्वपूर्ण जानकारियां।



  • विश्व में पहली बार 1954 में जीएसटी फ्रांस में लागू हुआ था

  • भारत जीएसटी व्यवस्था लागू करने वाला विश्व का 161 वां देश है

  • सर्वप्रथम जीएसटी का प्रारूप तैयार करने वाली समिति के अध्यक्ष असीम दासगुप्ता थे

  • जीएसटी लागू करने वाला भारत का प्रथम राज्य असम था जिसने 12 अगस्त 2016 को जीएसटी लागू किया था

  • जीएसटी लागू करने वाला भारत का अंतिम राज्य जम्मू-कश्मीर है जिसने 5 जुलाई 2017 को जीएसटी लागू किया

  • जीएसटी के अंतर्गत 17 अप्रत्यक्ष कर एवं टायर उपकार को शामिल किया गया है

  • जीएसटी परिषद के अध्यक्ष वित्त मंत्री होते हैं

  • जीएसटी परिषद में सम्मिलित सदस्यों की कुल संख्या 33 है

  • जीएसटी परिषद की स्थापना 12 सितंबर 2016 को की गई थी

  • जीएसटी परिषद में उपाध्यक्ष राज्य सरकार के मंत्रियों के बीच से निर्वाचित होते हैं

  • जीएसटी की चोरी करने पर 5 वर्षों का कारावास प्रावधान रखा गया है


 

जीएसटी के कुल कितने दर निर्धारित किए गए हैं


 

जीएसटी के तहत कर की कुल 4 तरह की दरें निर्धारित की गई है जो नीचे दिए गए हैं

  1. 5%

  2. 12%

  3. 18%

  4. 28%



  • दोस्तों मैं आपको बता दूं कि पेट्रोलियम, शराब शिक्षा और स्वास्थ्य सेवाओं को जीएसटी से बाहर रखा गया है.

  • वार्षिक टर्न ओवर 20 लाख से ज्यादा होने पर जीएसटी भुगतान करना आवश्यक हो गया है


 

जीएसटी को कितने भागों में बांटा गया है


जीएसटी को मुख्यतः तीन भागों में बांटा गया है

  • CGST :   Central good and service tax

  • SGST :    State goods and service tax

  • IGST :     Integrated Goods